भोपाल की नवाब बेगमों ने किया था शिक्षा को प्रोत्साहित

blog-img

भोपाल की नवाब बेगमों ने किया था शिक्षा को प्रोत्साहित

शिक्षा के लिए समर्पित महिला

देश में महिलाओं की शिक्षा का जिक्र करते हुए हम भोपाल रियासत की नवाबों द्वारा शिक्षा को लेकर किए गए कार्यों का उल्लेख करना नहीं भूल सकते। भोपाल रियासत की पहली महिला नवाब कुदसिया बेगम ने 1819 से 1837 तक राज किया था। वे अपने समय से बहुत ही आगे की सोच रखती थी। उन्होंने पर्दा प्रथा को अपनाने से इनकार कर दिया था और अशिक्षित होने के बावजूद महिलाओं को बराबरी का दर्जा दिए जाने की पक्षधर थी। उन्होंने अपनी दो साल की बेटी को नवाब सिकंदर बेगम को अगला नवाब घोषित कर दिया था, जिसे सभी ने स्वीकार किया था। 1844 से 2868 तक अपने राज में नवाब सिंकदर बेगम ने अपनी रियासत में आधुनिकीकरण एवं विकास पर जोर दिया था। उनकी बेटी नवाब शाहजहां बेगम ने शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान किया था। नवाब शाहजहां बेगम का जन्म 29 जुलाई 1838 को इस्लामनगर में हुआ था। वे दो बार 1844-60 तक और 1868-1901 तक भोपाल रियासत की नवाब रही। इन्होंने मुहम्मदान एंग्लो-ओरियंटल कॉलेज अलीगढ़ की स्थापना में भरपूर सहयोग किया था। यह कॉलेज बाद में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के रूप में विख्यात हुआ। इन्होंने वहां तीन होस्टल सुल्तान जहां होस्टल, नसरुल्लाह होस्टल एवं ओबैदुल्लाह होस्टल बनवाया।

नवाब शाहजहां बेगम की बेटी सुल्तान जहां बेगम का जन्म 9 जुलाई 1858 को हुआ था। ये 1901 से 1926 तक भोपाल रियासत की नवाब रही। इन्होंने अपनी रियासत में शिक्षा को लेकर क्रांतिकारी कदम उठाए। इन्होंने 1918 में मुफ्त एवं अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा लागू किया था। 1914 में वे अखिल भारतीय मुस्लिम महिला एसोसिएशन की अध्यक्ष रही थी। वे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की संस्थापक चांसलर थी, उसके बाद विश्वविद्यालय में कभी भी कोई महिला कुलपति नहीं बन सकी। अपनी रियासत में उन्होंने तकनीकी शिक्षा एवं उच्च शिक्षा को प्रोत्साहित किया। महिलाओं को शिक्षित करने के लिए उन्होंने सुल्तानिया कन्या विद्यालय की नींव रखी, जिसे अब हम शासकीय सुल्तानिया कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के नाम से जानते हैं। यह विद्यालय शाहजहांनाबाद में स्थित है। उन्होंने रफीका कन्या विद्यालय की स्थापना भी की थी, जिसका बाद में नाम बदलकर फाल्कॉन क्राइस्ट कर दिया गया। इसे उनके पोता नासिज मिर्जा चला रहे हैं। शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान को देखते हुए शिक्षा पर अखिल भारतीय कांफ्रेंस की वह पहली अध्यक्ष बनाई गई थी।

संदर्भ स्रोत- मध्यप्रदेश महिला संदर्भ 

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मप्र में बाल विवाह की स्थिति और लाडो अभियान
विमर्श वीथी

मप्र में बाल विवाह की स्थिति और लाडो अभियान

मुख्य उद्देश्य -जनसमुदाय की मानसिकता में सकारात्मक बदलाव के साथ बाल विवाह जैसी कुरीति को सामुदायिक सहभागिता से समाप्त कर...

अनोखी है उदिता योजना
विमर्श वीथी

अनोखी है उदिता योजना

उदिता योजना अंतर्गत किशोरी के मासिक धर्म संबंधी स्वास्थ्य को बढ़ावा दिया जााता हैं।

मप्र की महिलाओं में एनीमिया की स्थिति
विमर्श वीथी

मप्र की महिलाओं में एनीमिया की स्थिति

क्या आपको मालूम है कि देश की आधी आबादी भीतर से कमज़ोर है। उनके साथ आपके घर की सुबह होती है। वे आपके लिए चाय बनाती हैं, न...

महिला किसानों के हित में शासकीय योजनाएं
विमर्श वीथी

महिला किसानों के हित में शासकीय योजनाएं

​​​​​​​मध्यप्रदेश सरकार समय-समय पर महिला किसानों के हित में योजनाएं लेकर आती रही है, जिसके सकारात्मक परिणाम भी हुए हैं।

पुरस्कार सम्मान और मप्र की महिला किसान    
विमर्श वीथी

पुरस्कार सम्मान और मप्र की महिला किसान    

वास्तविकता यह है कि खेती से सम्बंधित 70 प्रतिशत काम काज महिलाएं ही करती हैं। चाहे वह नीड़ाई, बोआई हो या फसल काटने जैसा का...

मप्र के खेल जगत में महिलाओं का योगदान  
विमर्श वीथी

मप्र के खेल जगत में महिलाओं का योगदान  

मध्यप्रदेश की लड़कियां खेलों में शिखर छू रही हैं। पारंपरिक माहौल की बहुत सारी बेड़ियों को झटकते हुए यहां की बेटियों ने ख...