गरीब आदिवासी महिलाओं ने मजदूरी छोड़ थामी कूची, विदेशों में भी हैं पेंटिंग के मुरीद 

blog-img

गरीब आदिवासी महिलाओं ने मजदूरी छोड़ थामी कूची, विदेशों में भी हैं पेंटिंग के मुरीद 

छाया:  नव दुनिया

यदि आपके पास हुनर है तो एक न एक दिन आप अपना मुकाम हासिल कर ही लेते हैं। बस स्वयं को परिस्थितियों के अनुसार ढालना है और हार नहीं माननी है। यह बात उमरिया जिले के लोढ़ा जैसे छोटे से गांव में जन्म लेने वाली आदिवासी परिवार की उन महिलाओं ने पर सटीक बैठती हैं, जिनका गुजारा महुआ बीनने और ईंट बनाने से होता था और जिन्होंने फाइन आर्ट का नाम तक नहीं सुना था, लेकिन अब ये महिलाएं आदिवासी कलाकार के रूप में स्थापित हो गई हैं और कला संसार में नये आयाम रच रही हैं।

• चित्र विदेशी पर्यटक सबसे ज्यादा पसंद करते हैं

ऐसी महिलाओं में ग्राम लोढ़ा की रामरती बाई बैगा और संतोष बाई बैगा के नाम शामिल हैं, जिनके बनाए बैगा आदिवासी शैली के चित्र दिल्ली के भूमिजन प्रदर्शनी और बांधवगढ़ के ललित कला के आयोजन में शामिल हो चुके हैं, जहां इनका सम्मान भी हुआ। इन महिलाओं के बनाए चित्र विदेशी पर्यटक सबसे ज्यादा पसंद करते हैं और उनकी मांग ब्रिटेन, जापान और कुछ अन्य देशों में है।

• संघर्ष के रास्ते, सफलता की मंजिल

जनगण तस्वीरखाना का संचालन कर रहे निमिष स्वामी बताते हैं कि जिले की इन महिलाओं ने संघर्ष का लंबा रास्ता तय किया, तब जाकर इन्हें सफलता हासिल हुई। आदिवासी परिवार की ये गरीब महिलाएं पारंपरिक आदिवासी कला से जुड़ी रहीं। इन्हें स्वर्गीय आशीष स्वामी ने 2006 में अवसर दिया और ये महिलाएं उत्कृष्ट कलाकार बन गईं। इन महिलाओं ने न सिर्फ अपना परिवार संभाला बल्कि अनपढ़ होते हुए भी कला की ऐसी साधना की जिससे इनके साथ जिले का नाम भी रोशन हो गया।

• बनाती थी ईंट

रामरती बाई बैगा और संतोषी बाई बैगा के घर के चूल्हे तब जलते थे, जब ये ईंट भट्टों पर दिनभर खुद को धूप में तपाकर ईंट बनाती थीं। सीजन में सुबह महुआ बीनने जाती थीं और आठ बजे चावल और उसका माड़ खाकर ईंट भट्टे पर पहुंच जाती थीं। घर की सफाई के दौरान स्वर्गीय आशीष स्वामी ने दोनों महिलाओं के अंदर पारंपरिक आदिवासी कलाकार को देखा और उन्हें प्रेरित किया।

• दीवारें सजाने से केनवास तक का सफर

रामरती बाई बैगा और संतोषी बैगा ने बताया कि जब वे अपने घर की सफाई करके उसे सजाती थीं तो देखने में उनका मिट्टी का बना घर आकर्षक लगने लगता था। वे उसे गोबर से लीपती थीं और गेरू, छूही माटी, पीली माटी से सजाती थीं। गेरू और पीली माटी से फूल, पक्षी और तितलियां बनाकर दीवारों को सजा देती थीं। उनकी इस कला को देखने के बाद स्वर्गीय आशीष स्वामी ने उन्हें चित्र बनाने के लिए कागज और कलर दिया और ट्रेनिंग भी दी। कुछ ही समय में दोनों महिलाएं कागज पर चित्र बनाने में निपुण हो गईं। इसके बाद उन्हें केनवास दिया तो इन आदिवासी अनपढ़ महिलाओं ने कला का संसार रच डाला।

सन्दर्भ स्रोत – नव दुनिया

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



इंदौर की अस्मी ने जीता एप्पल स्विफ्ट स्टूडेंट चैलेंज,
न्यूज़

इंदौर की अस्मी ने जीता एप्पल स्विफ्ट स्टूडेंट चैलेंज, , बनाया हाथों के मूवमेंट बेहतर करने वाला एप

वर्ल्डवाइड डेवलपर्स कॉन्फ्रेंस के स्विफ्ट कोडिंग लैंग्वेज चैलेंज में पहुंचे थे दुनिया के 50 युवा

भोपाल की नेहा सैय्यद ने सँवारा महरौली में कुली खान का मकबरा  
न्यूज़

भोपाल की नेहा सैय्यद ने सँवारा महरौली में कुली खान का मकबरा  

समरकंद आर्ट से इंदौर के राजवाड़ा, अयोध्या में दशरथ महल को भी दे चुकी हैं नया स्वरूप

एशियाई कुश्ती मप्र टीम में सुहानी सेन का चयन
न्यूज़

एशियाई कुश्ती मप्र टीम में सुहानी सेन का चयन

दिल्ली में होने वाली ट्रायल में भाग लेगी, हरियाणा सोनीपत में ले रही हैं ट्रेनिंग

बीजिंग में प्रदर्शित होगी संजू जैन की पेंटिंग
न्यूज़

बीजिंग में प्रदर्शित होगी संजू जैन की पेंटिंग

संजू 17 एकल समूह के अलावा 50 से अधिक समूह प्रदर्शनियों में हिस्सा ले चुकी हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : दहेज मांगना अपराध... लेकिन
न्यूज़

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : दहेज मांगना अपराध... लेकिन , कम दहेज का ताना देना दंडनीय नहीं

न्यायालय ने माना कि परिवार के सदस्यों के खिलाफ आरोप स्पष्ट होने चाहिए, जिसमें आपराधिक मुकदमा चलाने के लिए प्रत्येक सदस्य...

ग्वालियर की निहारिका की पेंटिंग को इंटरनेशनल
न्यूज़

ग्वालियर की निहारिका की पेंटिंग को इंटरनेशनल , गिरमिट कॉन्फ्रेंस लंदन में मिला अवॉर्ड

निहारिका ने बनाई दुनिया की अनोखी पेंटिंग, इसलिए इंटरनेशनल गिरमिट कॉफ्रेंस में वेल्श पार्लियामेंट में मिला अवॉर्ड