इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां

blog-img

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां
नाबालिग बच्चों की परवरिश के लिए सर्वोत्तम

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा है कि बच्चों को जन्म देने वाली मां यानी बायोलॉजिकल मदर ही बच्चों की बचपन की सभी जरूरतों को पूरा करने के अलावा परवरिश करने के लिए श्रेष्ठ है। कोर्ट ने इस पर फैसला सुनाते हुए तीन नाबालिग बच्चों को उनके सौतेले भाई से लेकर उनकी बायोलॉजिकल मदर को सौंपने का आदेश दिया।

जानकारी के मुताबिक, यह मामला उप्र के प्रतापगढ़ जिले का है। यहां एक जन्म देने वाली मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपने तीन नाबालिग बच्चों को उनके सौतेले भाई से लेकर खुद को सौंपने की याचिका दायर की थी। बच्चों के पिता की मृत्यु हो जाने के बाद वे तीनों अपने सौतेले भाई के साथ रह रहे थे। इस पर न्यायमूर्ति सौरभ लवानिया की एकल पीठ ने बायोलॉजिकल मदर की याचिका को मंजूर करते हुए आदेश दिया कि बच्चों को उनकी मां को सौंप दिया जाए।

वहीं, दूसरी ओर इस मामले में सौतेले भाई की ओर से कहा गया कि बच्चों के पिता की मृत्यु के बाद से उनकी मां ने ससुराल में रहना ही छोड़ दिया था। सौतेले भाई का कहना था कि तब से वह तीनों बच्चों की देखभाल समेत उनकी सभी जरूरतें पूरी कर रहा है। इतना ही नहीं, सौतेले भाई ने बच्चों को सौपने की मांग को लेकर, जैविक माता द्वारा दाखिल इस बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका की पोषणीयता पर भी सवाल उठाए।

इस पर, कोर्ट ने स्पष्ट किया कि कानूनी अभिभावक अपने नाबालिग बच्चों की अभिरक्षा किसी परिजन या संबंधी से बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका के माध्यम से मांग सकता है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में बच्चे अपने किसी कानूनी अभिभावक के पास नहीं हैं, ऐसे में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पोषणीय है। इस कानूनी व्यवस्था के साथ कोर्ट ने याचिका मंजूर कर तीनों नाबालिग बच्चों को उनकी जैविक माता को सौंपने का आदेश दिया।

सन्दर्भ स्रोत : लेटेस्ट लॉ डॉट कॉम

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



पटना हाईकोर्ट : सिर्फ आरोप लगा देने से नहीं मिलेगा तलाक
अदालती फैसले

पटना हाईकोर्ट : सिर्फ आरोप लगा देने से नहीं मिलेगा तलाक

दहेज के खातिर पत्नी को पागल बता मांगा डिवोर्स, हाई कोर्ट ने पति को लगाई फटकार कहा, पहले सबूत लाओ फिर लो तलाक

इलाहाबाद हाईकोर्ट : हिंदू रीति के बिना शादी
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : हिंदू रीति के बिना शादी , हुई तो मैरिज सर्टिफिकेट होगा खारिज

न्यायालय ने अपने निर्णय में कहा कि विवाह को सिद्ध करने का भार प्रतिवादी पर था, परंतु हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 7 के त...

सुप्रीम कोर्ट : मुस्लिम महिलाएं भी मांग सकती हैं गुजारा भत्ता
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट : मुस्लिम महिलाएं भी मांग सकती हैं गुजारा भत्ता

सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला लेते हुए कहा है कि कोई भी मुस्लिम तलाकशुदा महिला सीआरपीसी की धारा 125 के तहत पति से गुजारे...

जबलपुर हाईकोर्ट : शादी के वादे को
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : शादी के वादे को , समझने में इतना समय नहीं लगता

कोर्ट ने कहा दस साल मर्जी से संबंध बने और अब महिला कह रही कि लड़का शादी का झांसा देकर 10 साल तक उसके साथ बलात्कार करता...

इलाहाबाद हाईकोर्ट : लंबे समय तक अलगाव
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : लंबे समय तक अलगाव , विवाह-विच्छेद की स्थिति उत्पन्न नहीं करता

कोर्ट ने कहा - अलगाव की अवधि के आधार पर पति और पत्नी को तलाक नहीं दिया जा सकता। 

दिल्ली हाईकोर्ट : पति की कमाई को लेकर
अदालती फैसले

दिल्ली हाईकोर्ट : पति की कमाई को लेकर , मारा ताना, तो हो सकता है तलाक

हाईकोर्ट ने कहा कि जीवनसाथी को कम कमाई की लगातार याद नहीं दिलानी चाहिए