रेप मामले में केरल हाईकोर्ट:अपरिहार्य मजबूरी के सामने बेबसी को सहमति नहीं मान सकते

blog-img

रेप मामले में केरल हाईकोर्ट:अपरिहार्य मजबूरी के सामने बेबसी को सहमति नहीं मान सकते

छाया: विकिपीडिया

महत्वपूर्ण अदालती फैसले

कोच्चि। केरल हाईकोर्ट (Kerala High Court) ने बलात्कार के मामले में दोषी करार दिए गए एक व्यक्ति द्वारा दायर अपील पर विचार करते हुए कहा कि अपरिहार्य मजबूरी के सामने बेबसी को सहमति नहीं माना जा सकता है। न्यायमूर्ति आर नारायण पिशारदी ने अपने आदेश में कहा कि केवल इसलिए कि पीड़िता आरोपी से प्यार करती थी, यह नहीं माना जा सकता कि उसने संबंध बनाने के लिए सहमति दी थी। अदालत ने 31 तारीख के अपने आदेश में कहा, ‘कानून के परिप्रेक्ष्य में अपरिहार्य मजबूरी के सामने बेबसी को सहमति नहीं माना जा सकता। सहमति के लिए किसी कृत्य के बारे में और इसके नैतिक प्रभाव का बोध होना आवश्यक है। केवल इस वजह से कि पीड़िता आरोपी से प्यार करती थी, यह नहीं कहा जा सकता कि उसने शारीरिक संबंध के लिए सहमति दी थी।’

अदालत 26 वर्षीय श्याम सिवन की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें उसने अपनी दोषसिद्धि और निचली अदालत द्वारा भारतीय दंड संहिता की धारा 376 समेत विभिन्न धाराओं के तहत सुनाई गई सजा को चुनौती दी। अदालत ने अपने फैसले में कहा कि आरोपी 2013 में एक लड़की को मैसूर ले गया था, जिसके साथ उसके संबंध थे और लड़की की सहमति के बिना उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। अदालत ने यह भी कहा कि आरोपी ने उसके सोने के सभी गहने बेच दिए और फिर उसे गोवा ले गया, जहां उसने लड़की से फिर से बलात्कार किया।

अदालत ने कहा, ‘लड़की द्वारा प्रस्तुत किए सबूत बताते हैं कि उसने धमकी दी थी कि अगर वह उसके साथ नहीं गई तो वह (आरोपी) उसके घर के सामने आत्महत्या कर लेगा’।  अदालत ने कहा कि अगर यह मान लिया जाए कि बाद के मौकों पर लड़की ने आरोपी के कृत्य का विरोध नहीं किया तो भी यह नहीं कहा जा सकता कि आरोपी को उसने शारीरिक संबंध बनाने की सहमति दी थी। अदालत ने अपने फैसले में कहा कि यह माना जा सकता है कि पीड़ित लड़की ने किसी अपरिहार्य परिस्थितियों में ऐसा नहीं किया होगा, क्योंकि उसके पास कोई अन्य विकल्प नहीं था।

हालाकि, अदालत ने यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) कानून के तहत दोषसिद्धि को रद्द कर दिया क्योंकि पीड़िता की उम्र साबित नहीं हुई। अदालत ने कहा कि आरोपी का कृत्य स्पष्ट रूप से भारतीय दंड संहिता (अपहरण और बलात्कार) की धारा 366 और 376 के तहत दंडनीय अपराध है।

संदर्भ स्रोत – एनडी टीवी इंडिया 

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कलकत्ता हाईकोर्ट : मातृत्व लाभ के लिए नियमित, संविदा
अदालती फैसले

कलकत्ता हाईकोर्ट : मातृत्व लाभ के लिए नियमित, संविदा , कर्मचारियों के बीच भेदभाव स्वीकार्य नहीं

आरबीआई की संविदा कर्मचारी को प्रसव और मातृत्व अवकाश लाभ न दिए जाने हाईकोर्ट ने जताई नाराजगी  

सुप्रीम कोर्ट : पत्नी द्वारा सास-ससुर से अलग रहने
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट : पत्नी द्वारा सास-ससुर से अलग रहने , पर, पति को तलाक का अधिकार

यह फैसला उन सभी पतियों के लिए राहत की बात है जो अपनी पत्नियों द्वारा अपने माता-पिता से अलग रहने के लिए मजबूर किए जाते है...

उत्तराखंड हाईकोर्ट: सरकारी नौकरी से वंचित
अदालती फैसले

उत्तराखंड हाईकोर्ट: सरकारी नौकरी से वंचित , नहीं रह सकतीं गर्भवती महिलाएं

नैनीताल हाईकोर्ट ने उस नियम को रद्द कर दिया, जो गर्भवती महिलाओं को सरकारी नौकरियों से वंचित करते हैं और उपयुक्त नहीं मान...

राजस्थान हाईकोर्ट : पत्नी कर रही है कमाई,
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : पत्नी कर रही है कमाई, , तो बच्चे के भरण-पोषण का उठाना पड़ेगा खर्च

कोर्ट ने कहा - जब बच्चे के दोनों संरक्षक कमा रहे हैं और दोनों की आर्थिक स्थिति लगभग समान है, ऐसी स्थिति में बच्चे के भरण...

दिल्ली हाईकोर्ट : मां का भरण-पोषण करना
अदालती फैसले

दिल्ली हाईकोर्ट : मां का भरण-पोषण करना , बेटे का नैतिक और कानूनी दायित्व

वरिष्ठ नागरिक की अपने ‘बेटे और बहू’ को बेदखल करने की याचिका स्वीकार करते हुए कोर्ट ने कहा - अधिनियम की धारा 4(2) बच्चों...

सुप्रीम कोर्ट : शादी के बाद महिला को नौकरी
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट : शादी के बाद महिला को नौकरी , से निकालना, लैंगिक असमानता

नर्स को बर्खास्त किए जाने को सुप्रीम कोर्ट ने 'जेंडर भेदभाव और असमानता का बड़ा मामला’ करार दिया। पूर्व आर्मी नर्स के पक्...