पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की

blog-img

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

चंडीगढ़। पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए यह स्पष्ट कर दिया कि पत्नी और बच्चों की बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना पति की क्रूरता है। हाईकोर्ट ने यह टिप्पणी जालंधर की फैमिली कोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली पति की याचिका को खारिज करते हुए की है। याचिका दाखिल करते हुए पति ने आरोप लगाया था कि पत्नी अपने बच्चे के साथ वैवाहिक घर छोड़कर चली गई है, जो क्रूरता है। यह भी कहा गया कि याची को किसी दूर के रिश्तेदार के माध्यम से पता चला कि पत्नी विदेश चली गई है और उसके माता-पिता ने उसका पता बताने से इन्कार कर दिया। फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया। 

फैमिली कोर्ट के समक्ष तलाक याचिका में पत्नी की ओर से कोई पेश नहीं हुआ, लेकिन अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि अपने वैवाहिक दायित्वों को निभाने में विफल रहने के बाद, अपीलकर्ता-पति को तलाक की अनुमति नहीं दी जा सकती। ऐसे में फैमिली कोर्ट ने तलाक के लिए दाखिल पति की याचिका को खारिज कर दिया था। इसके खिलाफ पति ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी। हाईकोर्ट में पत्नी ने दलील दी कि पति इटली में रहता था और शादी के बाद याची ने उसे भी वहां ले जाने का वादा किया था। 2009 में उसने बच्चे को जन्म दिया और याची 2011 में भारत आया और फिर से उसे इटली ले जाने का वादा दोहराया लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं किया गया। हाईकोर्ट ने कहा कि पत्नी और बच्चों की बुनियादी वित्तीय जिम्मेदारियों को पूरा करना पति का दायित्व होता है और यदि वह इसमें विफल रहता है तो यह परिवार के प्रति उसकी क्रूरता है। ऐसे में इस प्रकार के आचरण वाला पति तलाक का हकदार नहीं है। इन टिप्पणियों के साथ ही हाईकोर्ट ने पति की अपील खारिज कर दी।

संदर्भ स्रोत : अमर उजाला

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर
अदालती फैसले

​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर

हाईकोर्ट ने खारिज की महिला की याचिका, कानूनी लड़ाई में पति की जीत

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां , नाबालिग बच्चों की परवरिश के लिए सर्वोत्तम

यह मामला उप्र के प्रतापगढ़ जिले का है। यहां एक जन्म देने वाली मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपने तीन नाबालिग बच्चों को उन...

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद , भी पत्नी मांग सकती है गुजारा भत्ता

तलाक के बाद महिला को गुजारा भत्ता मांगने की मंजूरी

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में , हमेशा पुरुष ही दोषी नहीं होता

बलात्कार के आरोप को लेकर हाईकोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को
अदालती फैसले

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को , वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना भरण-पोषण देना होगा

कोर्ट ने कहा "याचिकाकर्ता इस आड़ में कि उसकी नौकरी चली गई है, पत्नी और नाबालिग बेटी का भरण-पोषण करने की अपनी जिम्मेदारी...

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता
अदालती फैसले

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता

हाईकोर्ट ने पति पत्नी के संबंधों को लेकर सुनाया बड़ा फैसला