हाईकोर्ट: परिवार की परिभाषा में बहन शामिल नहीं, भाई की

blog-img

हाईकोर्ट: परिवार की परिभाषा में बहन शामिल नहीं, भाई की
जगह बहन को नहीं मिल सकती अनुकंपा नियुक्ति

 

छाया: एबीपी लाइव

कर्नाटक हाईकोर्ट ने अपने हालिया फैसले में कहा है कि भाई की मौत हो जाने पर उसकी बहन को अनुकंपा के आधार पर नौकरी नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने साफ कर दिया कि बहन शादीशुदा भाई के परिवार का हिस्सा नहीं है। इसके साथ ही कोर्ट ने महिला के उस दावे को खारिज कर दिया, जिसमें उसने भाई की मौत पर अनुकंपा नियुक्ति की मांग की थी। हाईकोर्ट ने कर्नाटक सिविल सेवा (अनुकंपा आधार पर नियुक्ति) नियम, 1999 के आधार पर यह फैसला सुनाया।

कोर्ट ने नियम 2 (1) (बी) का उल्लेख करते हुए कहा कि इसके अनुसार, मृत पुरुष सरकारी कर्मचारी के मामले में उसकी विधवा, बेटा या बेटी जो उस पर आश्रित हैं और उसके साथ रह रहे हैं, उन्हें उसके परिवार का सदस्य माना जाता है।

महिला की याचिका खारिज करते हुए चीफ जस्टिस प्रसन्ना वी वराले और जस्टिस कृष्ण एस दीक्षित की खंडपीठ ने कहा, अपीलकर्ता को एक बहन होने के नाते परिवार का सदस्य नहीं माना जा सकता। इन नियमों का पालन कर्नाटक पॉवर ट्रांसमिशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड (केपीटीसीएळ) और बेंगलौर इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी (बेसकॉम) करती हैं, जो सरकारी कंपनियां हैं।

क्या है मामला?

कर्नाटक के तुमकुरु जिले की रहने वाली जीएम पल्लवी ने 28 फरवरी 2019 को जनता दर्शन के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री को एक आवेदन दिया था, जिसमें उन्होंने अपने भाई के स्थान पर अनुकंपा नियुक्ति की मांग की थी। उनके भाई शशिकुमार जूनियर लाइनमैन थे। 4 नवम्बर 2016 को सेवा के दौरान उनकी मौत हो गई थी। 

पिल्लई के आवेदन को बेसकॉम के पास भेजा गया था, जिसे कंपनी ने अस्वीकार करते हुए 13 नवम्बर 2019 को पत्र जारी किया। पल्लवी ने इसे आदेश को चुनौती दी, जिसे सिंगल बेंच ने ये कहते हुए खारिज कर दिया था कि अनुकंपा नियुक्ति के लिए बहन को परिवार का सदस्य मानने का प्रावधान नहीं है। साथ ही सिंगल बेंच ने इस बात को भी नोट किया कि अपीलकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट के फैसलों के संदर्भ में यह भी नहीं दिखाया कि वह भाई पर आश्रित थी।

सन्दर्भ स्रोत: एबीपी लाइव

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के , कारण अनाथ युवती को अनुकम्पा नियुक्ति न देना गलत

अनाथ युवती के लिए कोर्ट ने अपनाया उदार रवैया, दो माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
अदालती फैसले

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ , पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

उच्च न्यायालय ने उस व्यक्ति को तलाक देने के फैमिली कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा, जिसकी पत्नी ने उसके परिवार के पुरुष सदस...

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 27 सप्ताह के गर्भ को गिराने की याचिका

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने , की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

महिला डॉक्टर व उसकी मां के खिलाफ एफआईआर को खारिज करने से हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की , बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया।