'दिव्यांग सुदामा' के जज्बे और जूनून पर फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार

blog-img

'दिव्यांग सुदामा' के जज्बे और जूनून पर फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार

छाया:  आंचलिक ख़बरें डॉट कॉम

• दृष्टिबाधित सुदामा ने जूडो की ब्लाइंड राष्ट्रीय स्पर्धा में जीता था स्वर्ण

कटनी। जन्म से ही आंखों की रोशनी खो देने वाली कटनी की दिव्यांग बेटी सुदामा का लोहा दुनिया ने माना है। जूडो की राष्ट्रीय ब्लाइंड स्पर्धा में स्वर्ण समेत कई अन्य मुकाबलों में पदक जीते हैं। जर्मनी के फिल्मकार उन पर मोटिवेशनल फिल्म बना रहे हैं। लेकिन यहां सुदामा को कोई मदद नहीं मिल रही है। इससे वह पिछड़ रही हैं।

• अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर एक दिन का कलेक्टर बनाया गया था। लेकिन मदद किसी ने नहीं की।

मूलत: ढीमरखेड़ा के दशरमन गांव की दिव्यांग सुदामा चक्रवर्ती बचपन से ही प्रतिभाशाली हैं। अभावों में परिवार ने आगे बढ़ाया। उसने 2017 में गुरुग्राम हुई 5वें राष्ट्रीय जूडो ब्लाइंड स्पर्धा में स्वर्ण, 2018 व 2021 में कांस्य सहित देश के अलग-अलग शहरों में हुई स्पर्धाओं में कई पदक जीते। पिता छोटेलाल चक्रवर्ती मजदूरी कर परिवार चलाते हैं। इसी से बेटी का खर्च भी निकालते हैं।

• एक साल से लैपटॉप के लिए भटक रही

सुदामा ने बताया कि पढ़ाई के लिए वह दो साल से लैपटॉप का इंतजार कर रही हैं। सामाजिक न्याय विभाग में आवेदन दिया, लेकिन उसे जबलपुर स्थानांतरित कर दिया गया। एक साल बाद भी इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। सुदामा का कहना है कि दूसरे राज्यों में जिन खिलाडिय़ों को गोल्ड मेडल मिलता है उन्हें 2-3 लाख प्रोत्साहन राशि मिलती है, मप्र में नहीं मिलती। जर्मनी के फिल्मकार सुदामा पर 'आजादी’ नाम से फिल्म बना रहे हैं। इसमें दिव्यांग बेटियों का दर्द और सुदामा के माता-पिता के उत्साह बढ़ाने की कहानी है।

• विशेष पहल करेंगे

जिले की होनहार बेटी की प्रतिभा को पूरा सम्मान मिलेगा। सीएसआर मद से हर संभव मदद की जाएगी। विश्व दिव्यांग दिवस पर बतौर अतिथि बुलाएंगे। इसके अलावा पढ़ाई और जूडो प्रैक्टिस के लिए भी विशेष पहल करेंगे, ताकि बेटी आगे बढ़कर लोगों के लिए मिसाल बने। अवि प्रसाद कलेक्टर

• प्रवेश नहीं मिला, अब आइएएस का सपना

सुदामा बीए फाइनल ईयर की छात्रा हैं। श्याम सुंदर अग्रवाल कॉलेज सिहोरा से पढ़ाई करते हुए कटनी से कम्प्यूटर कोर्स कर रही हैं। सुदामा ने कहा, पहली कक्षा में जब प्रवेश लेने गईं तो शिक्षक ने न देख पाने की बात कहकर लौटा दिया था। अब वह सिर्फ आइएएस बनने का सपना देख रही हैं।

 संदर्भ स्रोत-पत्रिका

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

पढ़ाई से लेकर खेल तक संघर्ष
व्यूज़

पढ़ाई से लेकर खेल तक संघर्ष

जिस सरकार ने खेलो इंडिया और बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ जैसे आयोजनों को काफी प्रचारित किया, उसका ऐसा रवैया काफी आश्चर्यजनक था।

भोपाल की उर्वि और आस्था ने राष्ट्रीय स्तर पर लहराया परचम
न्यूज़

भोपाल की उर्वि और आस्था ने राष्ट्रीय स्तर पर लहराया परचम

कला उत्सव में जहाँ उर्वि कुलकर्णी (सितार) स्वर वाद्य कैटेगिरी में देश में पहले स्थान पर रहीं, वहीं आस्था घाडगे को तबला व...

विदेश में वॉर गेम्स का हिस्सा बनने वाली पहली महिला पायलट बनेंगी अवनि
न्यूज़

विदेश में वॉर गेम्स का हिस्सा बनने वाली पहली महिला पायलट बनेंगी अवनि

हवाई युद्धाभ्यास ‘वीर गार्जियन’ में हिस्सा लेने के लिए जापान रवाना होंगी। वे युद्ध की स्थिति में सुखोई जैसे विमान भी उड़...

डॉ.कुसुमलता की कला का इजिप्त में प्रदर्शन
न्यूज़

डॉ.कुसुमलता की कला का इजिप्त में प्रदर्शन

15 दिन के इजिप्त प्रवास में लकड़ी की नाव और मछली बनाई, इसके अलावा दीवार पर सपनों का शहर बनाया

पढ़ाई बंद हो जाने से निराश बच्चों के लिए उम्मीद बन कर आई अर्शी
न्यूज़

पढ़ाई बंद हो जाने से निराश बच्चों के लिए उम्मीद बन कर आई अर्शी

अर्शी ने इन बच्चों के लिए स्कूल से जोड़ो अभियान शुरू किया है. वे अभी तक 10 से अधिक बच्चों को सरकारी स्कूल में प्रवेश द...

शॉटगन -इटारसी की प्रीति रजक विदेशों में लहरा रही देश का परचम
न्यूज़

शॉटगन -इटारसी की प्रीति रजक विदेशों में लहरा रही देश का परचम

मध्यमवर्गीय परिवार की बेटी प्रीति रजक ने एक ऐसे खेल में अपने देश का नाम रोशन किया है, जिसका खर्चा उठाना उनके परिवार के ल...