फीफा फुटबॉल कप में आवाज का जादू बिखेरेगी मंडला की शैफाली

blog-img

फीफा फुटबॉल कप में आवाज का जादू बिखेरेगी मंडला की शैफाली

छाया: हरि भूमि

जबलपुर। मंडला जिले की तहसील नैनपुर में पान की दुकान लगाने संतोष चौरसिया की बेटी शैफाली ने दुनियाभर में आवाज का जादू बिखेरा है। अब शैफाली कतर में आयोजित फीफा फुटबॉल कप में आवाज का जादू बिखेरेंगी। उन्हें ग्रेविटास मैनेजमेंट एफ जेड ई संयुक्त अरब अमीरात की ओर से बुलाया गया है। नैनपुर निवासी संतोष चौरसिया ने बताया कि उनकी बेटी को इस बुलंदी पर देखकर उनका परिवार बेहद खुश है। उनका कहना है कि उन्होंने कभी सपने में नहीं सोचा था कि दुनिया के ऐसे बड़े आयोजन में उनकी बेटी पहुंचेगी। आज न सिर्फ उनका परिवार, बल्कि नैनपुर मंडला समेत पूरे मध्यप्रदेश का नाम रोशन हुआ है। बचपन से ही संगीत के प्रति रुचि ने उसे इस मुकाम तक पहुंचाया हैं। अलखोर के फेन जॉन में कुल 13 शो होंगे। पहली बार फुटबॉल विश्व कप अरब देश कतर में हो रहा है। रविवार को ही इसका शुभारंभ हुआ है। वर्ल्डकप के बीच अलग- अलग प्रस्तुति भी हो रही हैं।

जबलपुर से सीखा संगीत

संतोष ने बताया कि उनकी बेटी ने कक्षा 6वीं के बाद जबलपुर में संगीत कक्षा में प्रवेश लिया था। इसके बाद वह नागपुर में संगीत का प्रशिक्षण लेने चली गई। यहां से मुम्बई में परफारमेंस देने गई थी तो उसका चयन इस आयोजन के लिए हो गया। फुटबॉल मैच के दौरान 1 माह में उसके 13 शो आयोजित किए जाएंगे। वहीं शैफाली ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मेरे लाइव परफारमेंस के बाद मेरे सर रविन्द्र वानखेड़े ने इस शो के लिए मौका दिया। इसका लाइव शो तो नहीं होगा, लेकिन लौटने के बाद वे इसके वीडियो जारी करेंगी।

आवाज की जुगलबंदी

शैफाली का कहना है कि फीफा वर्ल्डकप आयोजन 29 दिनों तक चलने वाला हैं। इसमें 32 टीमों के कुल 64 मैच होने हैं। जिन 13 शो के लिए आयोजकों ने शेफाली को चुना है, उसकी प्रस्तुति मैच के ब्रेक में होगी। प्रोजेक्टर के माध्यम से स्टेडियम में मौजूद दर्शक हिन्दुस्तानी गीतों का लुत्फ उठाएंगे। संगीत के साथ सुरीली आवाज की जुगलबंदी का अलग अंदाज होगा। खास बात ये है कि संगीत धुन देने भारत के कई हिस्सों से कलाकार भी शामिल हुए हैं। वर्ल्ड कप मैच के ब्रेक के दौरान शेफाली की आवाज दुनिया भर में सुनाई देगी।

संदर्भ स्रोत – पीपुल्स समाचार

 

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

25 से ज्यादा ताल वाद्य बजाती हैं तेजस्विता अनंत
न्यूज़

25 से ज्यादा ताल वाद्य बजाती हैं तेजस्विता अनंत

जिनकी संगीत यात्रा ढोलक बजाने से शुरू हुई थी तेजस्विता ने भारत भवन में एक नाटक में किसी को पखावज बजाते देखा और उसके बारे...

जुड़वां बहनों ने 10 साल की उम्र में लिखीं दो किताबें
न्यूज़

जुड़वां बहनों ने 10 साल की उम्र में लिखीं दो किताबें

वे जब लिखती हैं, तो बड़े-बड़े उनकी रचनात्मकता देखकर हैरान हो जाते हैं।

'दिव्यांग सुदामा'  के जज्बे और जूनून पर  फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार
न्यूज़

'दिव्यांग सुदामा' के जज्बे और जूनून पर फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार

जन्म से ही आंखों की रोशनी खो देने वाली कटनी की बेटी सुदामा ने राष्ट्रीय स्तर पर अनेक प्रतियोगिताएं जीती हैं

रंग लाया दिव्यांग जानकी का संघर्ष
न्यूज़

रंग लाया दिव्यांग जानकी का संघर्ष

जानकी सबसे पहले चर्चा में उस वक्त आई, जब उसने एशियन-ओशियन जूडो चैंपियनशिप में दिव्यांग वर्ग में कांस्य पदक जीता।

समाज की दोहरी मानसिकता
व्यूज़

समाज की दोहरी मानसिकता

आम जनता में बहुतेरे लोग यही मानते होंगे कि बिल्किस बानो उनके घर की महिला तो हैं नहीं, जो उनके लिए परेशान हुआ जाए।

सुप्रीम कोर्ट में महिला जजों की बेंच सुन रही मामले
न्यूज़

सुप्रीम कोर्ट में महिला जजों की बेंच सुन रही मामले

पहली बार साल 2013 में जस्टिस ज्ञान सुधा मिश्रा और जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई की बेंच बनाई गई थी। दूसरा मौका साल 2018 में...