बॉम्बे हाईकोर्ट : बेरोजगार पति को गुजारा भत्ता दे पत्नी

blog-img

बॉम्बे हाईकोर्ट : बेरोजगार पति को गुजारा भत्ता दे पत्नी

बॉम्बे हाईकोर्ट ने निचली अदालत के उस फैसले को बरकरार रखा है, जिसमें एक पत्नी को अपने बेरोजगार पति को ₹10,000 महीने गुजारा भत्ता देने का निर्देश दिया गया था। यह फैसला उस पारंपरिक कानूनी धारणा को चुनौती देता है, जहां आम तौर पर पति को पत्नी को गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया जाता है। हाईकोर्ट का फैसला निचली अदालत के आदेश को चुनौती देने वाली पत्नी की याचिका के जवाब में आया था। महिला का पति मेडिकल बीमारियों से भी पीड़ित है, उसे ₹10,000 का गुजारा भत्ता देने का निर्देश दिया गया था। 

अदालत ने क्या टिप्पणी की?

वैवाहिक विवाद की कार्रवाई के दौरान अगर कोई भी पक्ष अपना भरण-पोषण करने में असमर्थ है, तो वह दूसरे पक्ष से गुजारा भत्ता देने की मांग कर सकता है। इस मामले में पत्नी को अपने बेरोजगार पति को गुजारा भत्ता देने का शुरुआती आदेश 13 मार्च, 2020 को कल्याण की एक अदालत ने जारी किया था। इस निर्देश को चुनौती देते हुए पत्नी ने गुजारा भत्ता देने में असमर्थता का तर्क देते हुए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। 

पत्नी ने कहा- मैं इस्तीफा दे चुकी हूं

दरअसल, पत्नी ने कहा है कि उसने बैंक की ब्रांच मैनेजर के पद से इस्तीफा दे दिया था,  महिला ने बेरोजगार होने के अपने दावे के समर्थन में 2019 का एक त्याग पत्र दिखाया था। हालांकि निचली अदालत ने माना था कि पत्नी होम लोन का भुगतान कर रही थी और अपने नाबालिग बच्चे का खर्च भी उठा रही थी, तो वह उस सोर्स के बारे में बताए, जिससे यह खर्च पूरा किया जा रहा है। कल्याण की अदालत ने कहा था कि, बैंक से इस्तीफा देने के बाद, भी पत्नी कमा रही थी और उसके पास आय का एक स्रोत था।

साल 2016 का है मामला

मामला कुछ ऐसा था कि, साल 2016 में पति ने तलाक के लिए याचिका दायर की थी। पत्नी और पति ने एक-दूसरे से अंतरिम भरण-पोषण की मांग करते हुए आवेदन दायर किया था, जबकि निचली अदालत ने पत्नी के आवेदन को खारिज कर दिया, उसने पति के आवेदन को स्वीकार कर लिया, जिसमें पत्नी को पति को ₹10,000 का भुगतान करने का निर्देश दिया गया था, क्योंकि पति ने कहा था कि पत्नी बैंक में प्रति माह लगभग ₹65,000 कमा रही थी। पत्नी ने आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी

हाईकोर्ट ने बरकरार रखा फैसला

हाईकोर्ट में जस्टिस शर्मिला देशमुख ने कहा कि पत्नी के वकील ने इस बात पर विवाद नहीं किया कि आज की तारीख में पत्नी कमा रही है। पीठ ने कहा कि निचली अदालत में भी पत्नी ने अपनी आय के संबंध में कोई दस्तावेजी साक्ष्य दाखिल नहीं किया। अगर यह पत्नी का तर्क था कि उस पर कुछ खर्चों के भुगतान का दायित्व था, तो उसके लिए इसे रिकॉर्ड पर रखना जरूरी था ताकि ट्रायल कोर्ट खर्च की मात्रा का आकलन कर सके। 

पीठ ने आगे कहा कि किसी भी सामग्री के अभाव में अंतरिम गुजारा भत्ता देने के चरण में, अनुमान लगाने के कुछ तत्व शामिल होते हैं और पार्टियों की आय पर विचार करते हुए, ट्रायल कोर्ट गुजारा भत्ता की मात्रा का पता लगाता है। पीठ ने अंत में कहा कि “भले ही यह मान लिया जाए कि पत्नी को कुछ खर्च वहन करने हैं, यह उस पर निर्भर है। ट्रायल कोर्ट के समक्ष आवश्यक सामग्री रखें ताकि ट्रायल कोर्ट दिए जाने वाले भरण-पोषण की मात्रा का आकलन करने की स्थिति में हो। दुर्भाग्य से मामले में ऐसा नहीं किया गया है।”

संदर्भ स्रोत : आज तक

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के , कारण अनाथ युवती को अनुकम्पा नियुक्ति न देना गलत

अनाथ युवती के लिए कोर्ट ने अपनाया उदार रवैया, दो माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
अदालती फैसले

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ , पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

उच्च न्यायालय ने उस व्यक्ति को तलाक देने के फैमिली कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा, जिसकी पत्नी ने उसके परिवार के पुरुष सदस...

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 27 सप्ताह के गर्भ को गिराने की याचिका

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने , की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

महिला डॉक्टर व उसकी मां के खिलाफ एफआईआर को खारिज करने से हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की , बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया।