जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने

blog-img

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

जबलपुर हाईकोर्ट जस्टिस जीएस अहलूवालिया की एकलपीठ ने अपने आदेश में कहा है कि दुष्कर्म  छेड़छाड़ की झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाने की धमकी देना आत्महत्या के लिए प्रेरित करने की श्रेणी में आता है। एकलपीठ ने अपने आदेश में कहा कि युवक पीएससी की तैयारी कर रहा था। आपराधिक झूठे प्रकरण में फंसने के कारण उसे सरकारी नौकरी नहीं मिलती। अनावेदकों के खिलाफ धारा-306 के तहत प्रकरण चलाये जाने की पर्याप्त सामाग्री उपलब्ध है।

बालाघाट निवासी डॉ. शिवानी निषाद तथा उसकी मां रानी बाई ने मंडला जिले के बम्हनी थाने में धारा 306 के तहत दर्ज प्रकरण को खारिज किये जाने की मांग करते हुए उक्त याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि मृतक की मां कॉलोनी में आतंक मचाती थी। मां और बेटी के खिलाफ कॉलोनी में रहने वाले कई लोगों ने पुलिस में प्रकरण भी दर्ज कराया है।

एकलपीठ ने सुनवाई के दौरान पाया कि चंद्रशेखर उर्फ पवन आहूजा तथा उसकी मां का नाली में कचरा फेंकने के कारण विवाद था। पड़ोसियों ने युवक तथा उसकी मां के खिलाफ बालाघाट के कोतवाली थाने में अपराधिक प्रकरण दर्ज करवाये थे। युवक मकान गिरवी रखकर पीएससी की तैयारी के लिए इंदौर चला गया था। मानसिक तनाव के कारण उसका मन पढ़ाई में नहीं लग रहा था। वह बालाघाट आया तो पड़ोस में रहने वाली आवेदक डॉ. शिवानी निषाद ने दुष्कर्म  छेड़छाड़ के आरोपी की झूठी रिपोर्ट दर्ज करवाने की धमकी दी थी।

युवक अपने पिता के साथ अक्तूबर में जिला मंडला स्थित बम्हनी बंजर चला गया था। इस दौरान पड़ोसियों से उसकी मां का विवाद हुआ था, जिसके बाद वह बालाघाट वापस आया तो उसे फिर झूठे आरोप में फंसाने की धमकी दी गयी। इतना ही नहीं बेशर्म कहते हुए मरता नहीं है, कहा गया। युवक ने वापस मंडला आकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसके पास मिले सुसाइड नोट में भी इस बात का उल्लेख किया गया है।

पुलिस ने जांच के बाद आवेदक महिला डॉक्टर, उसकी मां सहित अन्य के खिलाफ धारा-306 के तहत प्रकरण दर्ज किया था। युवक की मां ने भी अपने बयान में बताया है कि उसके बड़े बेटे की तीन साल में मौत हो गयी थी। दूसरे बेटे ने भी आत्महत्या कर ली। बेटे को दुष्कर्म  छेड़छाड़ के झूठे प्रकरण में फंसाने की धमकी आवेदक द्वारा दी गयी थी। इतना ही नहीं बालाघाट में नहीं रहने के दौरान भी अनावेदकों ने उसके बेटे के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज करवा दिया था। एकलपीठ ने सुनवाई के बाद उक्त आदेश के साथ याचिका को खारिज कर दिया। 

संदर्भ स्रोत : अमर उजाला

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर
अदालती फैसले

​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर

हाईकोर्ट ने खारिज की महिला की याचिका, कानूनी लड़ाई में पति की जीत

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां , नाबालिग बच्चों की परवरिश के लिए सर्वोत्तम

यह मामला उप्र के प्रतापगढ़ जिले का है। यहां एक जन्म देने वाली मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपने तीन नाबालिग बच्चों को उन...

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद , भी पत्नी मांग सकती है गुजारा भत्ता

तलाक के बाद महिला को गुजारा भत्ता मांगने की मंजूरी

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में , हमेशा पुरुष ही दोषी नहीं होता

बलात्कार के आरोप को लेकर हाईकोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को
अदालती फैसले

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को , वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना भरण-पोषण देना होगा

कोर्ट ने कहा "याचिकाकर्ता इस आड़ में कि उसकी नौकरी चली गई है, पत्नी और नाबालिग बेटी का भरण-पोषण करने की अपनी जिम्मेदारी...

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता
अदालती फैसले

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता

हाईकोर्ट ने पति पत्नी के संबंधों को लेकर सुनाया बड़ा फैसला