पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ

blog-img

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने यह स्पष्ट कर दिया है कि पति के रिश्तेदारों के खिलाफ पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न का झूठा आरोप क्रूरता के बराबर है और तलाक का आधार हो सकता है। दरअसल एक महिला ने हाल ही में पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। उसने फैमिली कोर्ट के आदेश को चुनौती दी, जिसमें पत्‍नी की प्रताड़ना से परेशान पति को तलाक की इजाजत दे दी गई थी। ये महिला नहीं चाहती कि उसका और पति का तलाक हो। जिसके चलते उसने निचली अदालत के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी। हालांकि हाईकोर्ट ने इस महिला को जमकर लताड़ लगाई। बेंच ने माना कि इस महिला ने अपने ससुर और देवर को भी नहीं बख्‍शा और उनपर भी यौन उत्पीड़न  जैसे गंभीर आरोप बेवजह लगाये।

न्यायमूर्ति सुधीर सिंह और न्यायमूर्ति हर्ष बंगर की बेंच ने कहा, “परिवार के सभी पुरुष सदस्यों के खिलाफ सेक्सुअल असॉल्ट के आरोप लगाना और इसकी जांच के दौरान सभी का निर्दोष पाया गया, स्पष्ट रूप से क्रूरता के बराबर है।” दलीलें सुनने के बाद, बेंच ने कहा कि “अपीलकर्ता-पत्नी द्वारा अपने ससुर और देवर द्वारा सेक्सुअल असॉल्ट के संबंध में लगाए गए आरोपों के नेचर को सामान्य और सर्वव्यापी नहीं माना जा सकता है।”

हाईकोर्ट ने कहा कि जांच में यह पाया गया कि पत्नी के ससुराल वालों के खिलाफ यौन उत्पीड़न  और क्रूरता के आरोप गलत थे। बेंच ने कहा, “इस प्रकार कोई भी सुरक्षित रूप से निष्कर्ष निकाल सकता है कि खासतौर पर ससुर सहित परिवार के सदस्य किस दर्दनाक स्थिति में होंगे, जब बहू ने बुजुर्ग पर यौन उत्पीड़न  के आरोप लगाए होंगे। पत्नी के आचरण को ध्यान में रखा जा सकता है। उसने सवाल-जवाब के दौरान कहा कि उसने अपने ससुर के खिलाफ कभी भी यौन उत्पीड़न  का कोई आरोप नहीं लगाया था। हालांकि, तथ्य यही है। यह रिकॉर्ड पर साबित हो चुका है कि पत्नी ने ऐसे आरोप लगाए थे।”

पति की दलील

लिहाजा कोर्ट ने पत्‍नी की इस याचिका को खारिज करते हुए पति को तलाक प्रदान कर दिया। पति की तरफ से फैमिली कोर्ट में पत्‍नी के खिलाफ तलाक की याचिका में कहा गया था कि पत्‍नी शादी की शुरुआत से ही उसके और उसके परिवार के साथ दुर्व्यवहार करती थी और छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा भी करती थी।

संदर्भ स्रोत : न्यूज 18

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर
अदालती फैसले

​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर

हाईकोर्ट ने खारिज की महिला की याचिका, कानूनी लड़ाई में पति की जीत

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां , नाबालिग बच्चों की परवरिश के लिए सर्वोत्तम

यह मामला उप्र के प्रतापगढ़ जिले का है। यहां एक जन्म देने वाली मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपने तीन नाबालिग बच्चों को उन...

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद , भी पत्नी मांग सकती है गुजारा भत्ता

तलाक के बाद महिला को गुजारा भत्ता मांगने की मंजूरी

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में , हमेशा पुरुष ही दोषी नहीं होता

बलात्कार के आरोप को लेकर हाईकोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को
अदालती फैसले

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को , वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना भरण-पोषण देना होगा

कोर्ट ने कहा "याचिकाकर्ता इस आड़ में कि उसकी नौकरी चली गई है, पत्नी और नाबालिग बेटी का भरण-पोषण करने की अपनी जिम्मेदारी...

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता
अदालती फैसले

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता

हाईकोर्ट ने पति पत्नी के संबंधों को लेकर सुनाया बड़ा फैसला