इलाहाबाद हाईकोर्ट : पॉक्सो केस समझौते

blog-img

इलाहाबाद हाईकोर्ट : पॉक्सो केस समझौते
के आधार पर रद्द नहीं हो सकता

प्रयागराज। यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (पॉक्सो) कानून पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने सख्ति टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई के दौरान महत्वसपूर्ण फैसला दिया। उच्च न्यायालय ने अपीलकर्ता की पॉक्सो  में दर्ज मुकदमे को वापस लेने की याचिका खारिज करते हुए कहा कि इस कानून के तहत अपराध को आरोपी और पीड़ित  के बीच महज समझौते के आधार पर दरकिनार नहीं किया जा सकता है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति समित गोपाल ने पॉक्सो कानून के तहत आरोपी संजीव कुमार की याचिका को खारिज करते हुए कहा, ‘जब अपराध करने के लिए नाबालिग पीड़िता की सहमति मायने नहीं रखती तो समझौता सहित सभी चरणों में सभी व्यवहारिक उद्देश्यों के लिए उसकी सहमति मायने नहीं रखेगी। महज इसलिए कि नाबालिग पीड़िता बाद में याचिकाकर्ता के साथ समझौता करने के लिए राजी हो गई है यह पॉक्सो कानून के तहत मुकदमा रद्द करने के लिए पर्याप्त नहीं होगा।’

क्या है पूरा मामला

आजमगढ़ जिले के बिलारीगंज थाने में आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (दुष्कर्म), 313 (महिला की सहमति के बगैर गर्भपात कराना) और पॉक्सो कानून की धारा 3/4 के तहत मामला दर्ज किया गया था, जिसकी सुनवाई आजमगढ़ में विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो) के समक्ष चल रही है। आरोपी ने आपराधिक मुकदमे पर रोक लगाने और निचली अदालत द्वारा समन जारी करने के आदेश को खारिज करने की मांग की थी।

आरोपी ने दिया समझौते का तर्क

आरोपी ने दोनों पक्षों के बीच समझौते का हवाला देते हुए लंबित मामले पर निर्णय के लिए उच्च न्यायालय का रुख किया था। आरोपी याचिकाकर्ता की याचिका का विरोध करते हुए राज्य सरकार के वकील ने कहा कि उस पर आरोप है कि उसने नाबालिग लड़की के साथ तीन वर्षों तक दुष्कर्म किया और कथित अपराध के समय लड़की की उम्र 15 वर्ष थी।

सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का हवाला

उच्चतम न्यायालय के विभिन्न निर्णयों का संदर्भ देते हुए दो अप्रैल के अपने निर्णय में कहा कि ये अपराध पॉक्सो जैसे विशेष कानून के अंतर्गत कथित रूप से किए गए हैं, इसलिए महज समझौते के आधार पर मुकदमे को रद्द नहीं किया जा सकता। भले ही इसके लिए पीड़ित पक्ष ही राजी क्यों न हो। पॉक्सोर के मामले में समझौते की गुंजाइश नहीं होनी चाहिए।

संदर्भ स्रोत : न्यूज़ 18

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के , कारण अनाथ युवती को अनुकम्पा नियुक्ति न देना गलत

अनाथ युवती के लिए कोर्ट ने अपनाया उदार रवैया, दो माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
अदालती फैसले

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ , पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

उच्च न्यायालय ने उस व्यक्ति को तलाक देने के फैमिली कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा, जिसकी पत्नी ने उसके परिवार के पुरुष सदस...

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 27 सप्ताह के गर्भ को गिराने की याचिका

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने , की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

महिला डॉक्टर व उसकी मां के खिलाफ एफआईआर को खारिज करने से हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की , बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया।