इलाहाबाद हाईकोर्ट :  हिंदू शादियों में कन्यादान

blog-img

इलाहाबाद हाईकोर्ट :  हिंदू शादियों में कन्यादान
आवश्यक नहीं, सिर्फ 7 फेरे हैं जरूरी

लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने हाल ही में कहा है कि हिंदू विवाह अधिनियम के तहत हिंदू शादियों के लिए कन्यादान जरूरी नहीं है। अदालत ने कहा कि केवल सप्तपदी ही हिंदू विवाह का एक आवश्यक समारोह है और हिंदू विवाह अधिनियम में शादी के लिए कन्यादान का प्रावधान नहीं है। न्यायमूर्ति सुभाष विद्यार्थी की पीठ ने गत 22 मार्च को आशुतोष यादव द्वारा दायर एक पुनरीक्षण याचिका की सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की। अदालत ने हिंदू विवाह अधिनियम की धारा सात का भी जिक्र किया।

अदालत ने कहा, ‘हिंदू विवाह अधिनियम की धारा सात इस प्रकार है- हिंदू विवाह के लिए समारोह- (1) एक हिंदू विवाह किसी भी पक्ष के प्रथागत संस्कारों और समारोहों के अनुसार मनाया जा सकता है। (2) ऐसे संस्कारों और समारोहों में सप्तपदी (यानी दूल्हा और दुल्हन द्वारा पवित्र अग्नि के समक्ष संयुक्त रूप से सात फेरे लेना) शामिल है। सातवां फेरा लेने पर विवाह पूर्ण और बाध्यकारी हो जाता है।’ न्यायालय ने कहा, ‘इस तरह हिंदू विवाह अधिनियम केवल सप्तपदी को हिंदू विवाह के एक आवश्यक समारोह के रूप में मान्यता प्रदान करता है। वह हिंदू विवाह के अनुष्ठान के लिए कन्यादान को आवश्यक नहीं बताता है।’

अदालत ने कहा कि कन्यादान का समारोह किया गया था या नहीं यह मामले के न्यायोचित निर्णय के लिए जरूरी नहीं होगा और इसलिए इस तथ्य को साबित करने के लिए अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 311 के तहत गवाहों को नहीं बुलाया जा सकता। पुनरीक्षण याचिका दाखिल करने वाले ने इसी साल छह मार्च को अपर सत्र न्यायाधीश (फास्ट ट्रैक अदालत प्रथम) द्वारा दिए गए आदेश को चुनौती दी थी। इस आदेश में अदालत में मामले की सुनवाई के दौरान दो गवाहों के पुनर्परीक्षण के लिए उन्हें बुलाने से इनकार कर दिया था।

न्यायालय ने मुकदमे की कार्यवाही के दौरान अभियोजन पक्ष के दो गवाहों को फिर से गवाही के लिए बुलाने से इनकार कर दिया था। पुनरीक्षण आवेदन भरते समय यह तर्क दिया गया कि अभियोजन पक्ष के गवाह नंबर एक और उसके पिता जो अभियोजन पक्ष के गवाह नंबर दो थे, के बयानों में विरोधाभास था और इस तरह उनकी फिर से गवाही जरूरी थी। अदालत के सामने यह बात भी आयी कि अभियोजन पक्ष ने कहा था कि वर्तमान विवाद में जोड़े के विवाह के लिए कन्यादान आवश्यक था। ऐसे में अदालत ने समग्र परिस्थितियों पर विचार करते हुए कहा कि हिंदू विवाह के अनुष्ठान के लिए कन्यादान आवश्यक नहीं है। पीठ को अभियोजन पक्ष के गवाह संख्या एक और उसके पिता की फिर से गवाही की अनुमति देने का कोई पर्याप्त कारण नहीं मिला और पुनरीक्षण याचिका खारिज कर दी।

सन्दर्भ स्रोत : द प्रिंट

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के , कारण अनाथ युवती को अनुकम्पा नियुक्ति न देना गलत

अनाथ युवती के लिए कोर्ट ने अपनाया उदार रवैया, दो माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
अदालती फैसले

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ , पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

उच्च न्यायालय ने उस व्यक्ति को तलाक देने के फैमिली कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा, जिसकी पत्नी ने उसके परिवार के पुरुष सदस...

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 27 सप्ताह के गर्भ को गिराने की याचिका

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने , की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

महिला डॉक्टर व उसकी मां के खिलाफ एफआईआर को खारिज करने से हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की , बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया।