सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

blog-img

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने एक महिला की याचिका को खारिज कर दिया, एक 20 वर्षीय अविवाहित महिला ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए अपने 27 सप्ताह से अधिक की गर्भावस्था को समाप्त करने की याचिका लगाई थी, जिसमें उसने 27 सप्ताह से अधिक की गर्भावस्था को समाप्त करने की मांग की थी। कोर्ट ने कहा कि गर्भ में पल रहे भ्रूण को भी जीवित रहने का मौलिक अधिकार है। जस्टिस बीआर गवई, जस्टिस संदीप मेहता और जस्टिस एसवीएन भट्टी की पीठ दिल्ली हाईकोर्ट की ओर से तीन मई को महिला की याचिका करने के फैसले के खिलाफ विशेष अनुमति पर विचार कर रही थी। जब हाईकोर्ट ने आदेश पारित किया था तो गर्भावस्था 29 सप्ताह से अधिक हो चुकी थी।

कानून से अलग नहीं दे सकते आदेश

याचिकाकर्ता अविवाहित छात्र है, जो नीट परीक्षा की तैयारी कर रही है। उनके वकील ने कहा, छात्रा को उसे गर्भावस्था के बारे में 16 अप्रैल को पता चला, जब उसे पेट में भारीपन और बेचैनी का अनुभव हुआ। उस समय तक गर्भ को 27 सप्ताह हो चुके थे। इस मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस बीआर गवई ने कहा, "हम कानून से अलग कोई आदेश पारित नहीं सकते हैं।"

मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एक्ट के अनुसार गर्भावस्था को समाप्त करने की सीमा 24 सप्ताह है। इन नियम का उल्लंघन तभी किया जा सकता है, जब भ्रूण को लेकर अधिक समस्याएं हो या फिर मां के जीवन को खतरा हो। वकील ने पीठ से कहा कि याचिकाकर्ता का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य खतरे में है।

'गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार'

इस पर जस्टिस मेहता ने कहा, "सात महीने की गर्भवती। गर्भ में पल रहे बच्चे के जीवन के बारे में क्या? गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार है।" जवाब में वकील ने कहा कि बच्चे को जन्म के बाद ही अधिकार मिलते हैं। याचिकाकर्ता की वकील ने आग्रह किया, "वह (छात्रा) समाज का सामना नहीं कर सकती। वह बाहर नहीं आ सकती। उसके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर विचार किया जाना चाहिए।" कोर्ट ने याचिकाकर्ता को बच्चे के जन्म के संबंध में चिकित्सा सुविधाओं के लिए एम्स से संपर्क करने की छूट दी।

संदर्भ स्रोत : एबीपी लाइव

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *



​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर
अदालती फैसले

​​​​​​​दिल्ली हाईकोर्ट : मां के साथ नहीं रहना, बच्चे की इच्छा पर निर्भर

हाईकोर्ट ने खारिज की महिला की याचिका, कानूनी लड़ाई में पति की जीत

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट  : जन्म देने वाली मां , नाबालिग बच्चों की परवरिश के लिए सर्वोत्तम

यह मामला उप्र के प्रतापगढ़ जिले का है। यहां एक जन्म देने वाली मां ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपने तीन नाबालिग बच्चों को उन...

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट : तलाक के बाद , भी पत्नी मांग सकती है गुजारा भत्ता

तलाक के बाद महिला को गुजारा भत्ता मांगने की मंजूरी

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में
अदालती फैसले

इलाहाबाद हाईकोर्ट : यौन अपराधों में , हमेशा पुरुष ही दोषी नहीं होता

बलात्कार के आरोप को लेकर हाईकोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को
अदालती फैसले

कर्नाटक हाईकोर्ट :  पत्नी और बच्चे को छोड़ने वाले पति को , वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना भरण-पोषण देना होगा

कोर्ट ने कहा "याचिकाकर्ता इस आड़ में कि उसकी नौकरी चली गई है, पत्नी और नाबालिग बेटी का भरण-पोषण करने की अपनी जिम्मेदारी...

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता
अदालती फैसले

छग हाईकोर्ट : गैर मर्द से संबंध बनाना मानसिक क्रूरता

हाईकोर्ट ने पति पत्नी के संबंधों को लेकर सुनाया बड़ा फैसला