भोपाल की सौम्या का अंडर-19 क्रिकेट टीम में चयन

blog-img

भोपाल की सौम्या का अंडर-19 क्रिकेट टीम में चयन

छाया: दैनिक भास्कर

पहली बार में ही उपकप्तान बनीं

 जूनियर टीम में चुनी जाने वाली मप्र की पहली क्रिकेटर

भोपाल| राजधानी की ऑलराउंडर क्रिकेटर सौ'म्या तिवारी भारतीय अंडर-19 क्रिकेट टीम में चुनी गई हैं। वह भी सीधे उपकप्तान के रूप में। सौम्या भोपाल ही नहीं प्रदेश की पहली क्रिकेटर हैं जिसका चयन मुंबई में 27 नवंबर से छह दिसंबर तक न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली पांच मैचों की टी-20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में हुआ है। सौम्या शहर की पहली महिला क्रिकेटर होंगी जो इंडिया ब्लू जर्सी पहनेंगी। सौम्या ने अंडर-19 इंडिया ए टीम को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका अदा की थी। अरेरा अकादमी भोपाल से इंडिया टीम तक का सफर उन्होंने छह साल में पूरा कर लिया। सौम्या के पिता मनीष तिवारी कलेक्ट्रेट ऑफिस में सुपरवाइजर हैं।

• पहले कोच ने सिखाने से मना कर दिया था

कोच सुरेश चेनानी बताते हैं कि सौम्या की बड़ी बहन उसे 2016 में अकादमी लेकर आई थीं। तब अकादमी में कोई गर्ल्स प्लेयर नहीं थी। इसलिए पहली बार में सौम्या को कोच ने मना कर दिया था कि वह नहीं सिखाएंगे। लेकिन  सौम्या की जिद पर कोच ने उन्हें ट्रेनिंग देना शुरू किया।

संदर्भ स्रोत-  दैनिक भास्कर

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

25 से ज्यादा ताल वाद्य बजाती हैं तेजस्विता अनंत
न्यूज़

25 से ज्यादा ताल वाद्य बजाती हैं तेजस्विता अनंत

जिनकी संगीत यात्रा ढोलक बजाने से शुरू हुई थी तेजस्विता ने भारत भवन में एक नाटक में किसी को पखावज बजाते देखा और उसके बारे...

जुड़वां बहनों ने 10 साल की उम्र में लिखीं दो किताबें
न्यूज़

जुड़वां बहनों ने 10 साल की उम्र में लिखीं दो किताबें

वे जब लिखती हैं, तो बड़े-बड़े उनकी रचनात्मकता देखकर हैरान हो जाते हैं।

'दिव्यांग सुदामा'  के जज्बे और जूनून पर  फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार
न्यूज़

'दिव्यांग सुदामा' के जज्बे और जूनून पर फिल्म बना रहे जर्मन फिल्मकार

जन्म से ही आंखों की रोशनी खो देने वाली कटनी की बेटी सुदामा ने राष्ट्रीय स्तर पर अनेक प्रतियोगिताएं जीती हैं

रंग लाया दिव्यांग जानकी का संघर्ष
न्यूज़

रंग लाया दिव्यांग जानकी का संघर्ष

जानकी सबसे पहले चर्चा में उस वक्त आई, जब उसने एशियन-ओशियन जूडो चैंपियनशिप में दिव्यांग वर्ग में कांस्य पदक जीता।

समाज की दोहरी मानसिकता
व्यूज़

समाज की दोहरी मानसिकता

आम जनता में बहुतेरे लोग यही मानते होंगे कि बिल्किस बानो उनके घर की महिला तो हैं नहीं, जो उनके लिए परेशान हुआ जाए।

सुप्रीम कोर्ट में महिला जजों की बेंच सुन रही मामले
न्यूज़

सुप्रीम कोर्ट में महिला जजों की बेंच सुन रही मामले

पहली बार साल 2013 में जस्टिस ज्ञान सुधा मिश्रा और जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई की बेंच बनाई गई थी। दूसरा मौका साल 2018 में...