केरल हाईकोर्ट: गृहिणी भी राष्ट्र निर्माता..कामकाजी महिला के समान मुआवजा की हकदार

blog-img

केरल हाईकोर्ट: गृहिणी भी राष्ट्र निर्माता..कामकाजी महिला के समान मुआवजा की हकदार

छाया: हिन्दू डॉट कॉम

महत्वपूर्ण अदालती फैसले

केरल उच्च न्यायालय ने केरल राज्य सड़क परिवहन निगम (केएसआरटीसी) को हादसे में पीड़िता को इस आधार पर मुआवजा देने से इनकार करने के लिए फटकार लगाई कि वह एक गृहिणी है और कोई पैसा नहीं कमाती है। कोर्ट ने इसे अपमानजनक और समझ के परे बताया है। कोर्ट ने गृहिणी की भूमिका को राष्ट्र निर्माता बताते हुए बेहतर मुआवजा देने का आदेश दिया है। केरल हाई कोर्ट ने कहा है कि गृहिणी की भूमिका किसी राष्ट्रनिर्माता से कम नहीं है। उनके काम को तुच्छ नहीं बता सकते। हाई कोर्ट ने दुर्घटना पीड़ित महिला को कम मुआवजा देने के लिए दी गई इस दलील को भी खारिज कर दिया कि महिला हाउसवाइफ है और उसकी कोई आय नहीं है। इस पर हाई कोर्ट ने केएसआरटीसी काे फटकार भी लगाई और उचित मुआवजा देने का आदेश दिया। जस्टिस देवन रामचंद्रन ने कहा, ‘मुझे कहना होगा कि केएसआरटीसी का यह तर्क कि गृहिणी की कोई आय नहीं है और इसलिए विकलांगता और अन्य नुकसान के लिए मुआवजे की पात्र नहीं है, अपमानजनक है और यह समझ से परे है। घर में एक मां और पत्नी की भूमिका की तुलना किसी भी अन्य से नहीं की जा सकती है और घर में रहकर परिवार चलाने वाली महिला सच्ची राष्ट्र निर्माता है। वह अपना समय परिवार के लिए निवेश करती है और यह सुनिश्चित करती है कि अगली पीढ़ी को उत्कृष्टता के उच्चतम स्तर के साथ पोषित किया जाए। उसके प्रयासों को कभी भी तुच्छता से नहीं लिया जा सकता है।’ इसके साथ ही हाई कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि गृहिणी और कामकाजी महिला के लिए मुआवजा एक समान होना चाहिए।

• 40,214 रुपए मुआवजा दिया था
हाई काेर्ट मोटर वाहन दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण के आदेश को चुनौती देने वाली एक गृहिणी की अपील पर ये आदेश दिया। केएसआरटीसी के ड्राइवर के अचानक ब्रेक लगाने के चलते महिला बस से टकरा गई थी। उसे गंभीर चाेट लगी थी। इसके बदले मुआवजा में सिर्फ 40,214 रु. दिए गए थे। हाई कोर्ट ने 1,64,654 रु. मुआवजा का आदेश दिया।

इंसान को उसके पैसे के पैमाने से न मापें
जस्टिस देवन रामचंद्रन ने यह भी कहा कि इंसानों के जीवन को कभी भी उनके पैसे के पैमाने पर नहीं आंका जाना चाहिए, बल्कि उनके योगदान और निस्वार्थता से परखा जा सकता है।

सन्दर्भ स्रोत- दैनिक भास्कर

संपादन- मीडियाटिक डेस्क

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के
अदालती फैसले

राजस्थान हाईकोर्ट : सौतेली मां के राजकीय सेवा में होने के , कारण अनाथ युवती को अनुकम्पा नियुक्ति न देना गलत

अनाथ युवती के लिए कोर्ट ने अपनाया उदार रवैया, दो माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ
अदालती फैसले

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट : पति के रिश्तेदारों के खिलाफ , पत्नी द्वारा यौन उत्पीड़न के झूठे आरोप क्रूरता

उच्च न्यायालय ने उस व्यक्ति को तलाक देने के फैमिली कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा, जिसकी पत्नी ने उसके परिवार के पुरुष सदस...

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार
अदालती फैसले

सुप्रीम कोर्ट  : गर्भ में पल रहे बच्चे को भी जीने का मौलिक अधिकार

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की 27 सप्ताह के गर्भ को गिराने की याचिका

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने
अदालती फैसले

जबलपुर हाईकोर्ट : रेप की झूठी शिकायत करने , की धमकी देना भी खुदकुशी के लिए उकसाना   

महिला डॉक्टर व उसकी मां के खिलाफ एफआईआर को खारिज करने से हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया।

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की
अदालती फैसले

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट :पत्नी और बच्चों की , बुनियादी वित्तीय जरूरतें पूरी न करना क्रूरता

फैमिली कोर्ट ने पाया था कि यह याची ही था जिसने पत्नी और बच्चे का भरण-पोषण नहीं किया और उन्हें असहाय छोड़ दिया।