बुन्देलखंडी व्यंजन थदूला

blog-img

बुन्देलखंडी व्यंजन थदूला

बुन्देलखंडी व्यंजन थदूला

सामग्री:  साबूत काली उड़द : 400 ग्रा.,  लहसुन : 10-12 कली,  हरी मिर्च: 2,  लाल मिर्च पाउडर : ½ टी स्पून, अदरक : आधा इंच, तेल : तलने के लिए, स्वादानुसार नमक. 

विधि :

1-सूखी उड़द दाल पीस कर छान लें।  

2-अदरक, लहसुन और हरी मिर्च का पेस्ट बना लें।  

3-उड़द के आटे में अदरक, लहसुन और मिर्च का पेस्ट, लाल मिर्च पाउडर और नमक मिलाकर गूंथ लें।

4-छोटी-छोटी लोइयां तैयार करें।

5-गैस स्टोव पर कड़ाही रखें, गर्म होने पर तलने का तेल डालकर गर्म होने दें ।

6-लोइयों की छोटी-छोटी पुरियाँ बेलें  और आंच पर गर्म तेल में तलकर निकाल लें।

धनिया पत्ती की चटनी के साथ गरमा गरम परोसें।  

थदूला के नाम से प्रसिद्द यह व्यंजन बुंदेलखंड में अत्यधिक प्रचलित है। हर रेसिपी में अपनी रूचि के अनुसार  कुछ न कुछ प्रयोग किये जा सकते हैं।

सावधानी: यह बुन्देलखंडी व्यंजन विशेष अवसरों पर ही आजमाएँ क्योंकि इसके अधिक उपयोग से यूरिक एसिड बनने, किडनी और गॉल ब्लेडर में पथरी की आशंका है।  इसके अलावा जिन्हें वायु विकार हो, उन्हें इस व्यंजन से दूर रहना चाहिए।

मीडियाटिक डेस्क

Comments

Leave A reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मूंग दाल नाचोज़
व्यंजन

मूंग दाल नाचोज़

मूंग दाल नाचोज़

कुछ तुम कहो कुछ मैं सुनूं 
साहित्य-रस-गागरी

कुछ तुम कहो कुछ मैं सुनूं 

दोनों सुखी थे। साथ पढ़ते हुए दोस्ती हो गयी। फिर सगाई। अब दोनों चौबीसों घंटे आपस में बातें करने को छटपटाते।

​​​​​​​आकाशवाणी का वह जमाना
साहित्य-रस-गागरी

​​​​​​​आकाशवाणी का वह जमाना

दरअसल, आकाशवाणी ने हमें सस्ते साहित्य से सत्साहित्य को पढ़ने का सलीका और तमीज़ सिखाई।

तृप्ति चौधरी
डिज़ाईन

तृप्ति चौधरी

तृप्ति चौधरी पिछले तीन वर्षों से आभूषण डिजाईन कर रही हैं, ख़ास तौर पर ‘ईयर रिंग’ तैयार करते समय जिस तरह रंग और आकार का सं...

पी इंदु राव
सिरेमिक, मूर्तिकला, पेपरमेशी

पी इंदु राव

ग्वालियर की मूर्तिशिल्पी पी इंदु राव देश-विदेश में मध्यप्रदेश का नाम रोशन कर रही हैं।